Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2016 · 1 min read

मन की अभिलाषा

हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा।
स्‍वाभिमान की है परिभाषा।
गंगा जमनी जहाँँ सभ्‍यता,
पल कर बड़ी हुई है भाषा।
संस्‍कृति जहाँँ वसुधैवकुटुम्‍बकम्,
हिन्‍दी संस्‍कृत कुल की भाषा।
बाहर के देशों में रहते,
हर हिन्‍दुस्‍तानी की भाषा।
हर प्रदेश हर भाषा भाषी,
हिन्‍दी हो उन सब की भाषा।
आज राजभाषा है अपनी,
कल हो राष्‍ट्रकुलों की भाषा।
बने राष्‍ट्रभाषा यह ‘आकुल’
बस यह है मन की अभिलाषा।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1053 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
ग्रन्थ
ग्रन्थ
Satish Srijan
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Upasana Pandey
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
जय हो माई।
जय हो माई।
Rj Anand Prajapati
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
" यादें "
Dr. Kishan tandon kranti
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
Manisha Manjari
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
Ravi Prakash
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
कवि की लेखनी
कवि की लेखनी
Shyam Sundar Subramanian
इंसान होकर जो
इंसान होकर जो
Dr fauzia Naseem shad
#हिंदी-
#हिंदी-
*प्रणय प्रभात*
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
VINOD CHAUHAN
Loading...