Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

मन का डर

काँप उठता है बदन और धड़कने बढ़ जाती है
लफ्ज़ रूकते है जुबां पर साँसे भी थम जाती है
लाल हो जाती है नज़रे भौंह भी तन जाती है
सैकड़ो ख्याल मन को पलभर में घेर जाती है

खून बेअदबी पुरे तन में बेधड़क है भागता
नीद से आँखे भरी पर रात भर है जागता
मन किसी भी काम में अब कहीं लगता नहीं
अपने ही जज्बातों पर ज़ोर तब चलता नहीं

गर्मियों के दिन मे भी ये जिस्म ठंडा पर गया
है वो ज़िंदा अब भी लेकिन लगता जैसे मर गया
बेखयाली बादहवसी हाल कैसा हो गया
तन से वो जागा हुआ है मन से पूरा सो गया

शब्द बाकी है मगर ये होंठ कह ना पाएंगे
दर्द चाहे कोइ भी हो सब बे असर हो जाएंगे
है पसीना माथे पर और होठ भी सूख जाते है
पीठ सीधी होती नहीं और कंधे भी झुक जाते है

कोई कुछ भी बोल दे पर याद कुछ रहता नहीं
दिल में रहता है मगर दिमाग में टिकता नहीं
क्या है कहना क्या है सुनना कुछ समझ आता नहीं
एक बार डर जो आया आके फिर जाता नहीं

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल को तेरी
दिल को तेरी
Dr fauzia Naseem shad
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
शेखर सिंह
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
श्रम दिवस
श्रम दिवस
SATPAL CHAUHAN
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन गति
जीवन गति
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
"कदर"
Dr. Kishan tandon kranti
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...