Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

मन उड़ने का है

आज हवा में बिना पंख के मन उड़ने का है
बीते कल से आज पुन:, मन जुड़ने का है

बीता कल, कल कल कलरव सा
आज ह्रदय में गूंजे
रुके हुए जल में से बाहर
मन करता है कूंदे
बंधन छोड़ मुक्त ह्रदय फिर चल पड़ने का है|
आज हवा में बिना पंख के, मन उड़ने का है|

लगभग आधी हुई उम्र पर
फिर से मुरली आये
विस्मृत स्वर रचना सरगम बन
ओंठों पर मुस्काये
स्मृतियों की ओर पुन: अब, मन जुड़ने का है
आज हवा में बिना पंख के, मन उड़ने का है

संकल्पों का पुन: उभारना
कुछ करता लगता है
भ्रमित हुआ मन, सही मार्ग पर
चलता सा लगता है
जागे मन से आज ह्रदय फिर, कुछ गढ़ने का है
आज हवा में बिना पंख के, मन उड़ने का है

Language: Hindi
2 Comments · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Laxmi Narayan Gupta
View all
You may also like:
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"दुःख-सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
याद आते हैं
याद आते हैं
Juhi Grover
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
रक्त को उबाल दो
रक्त को उबाल दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
या खुदा तेरा ही करम रहे।
या खुदा तेरा ही करम रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
पूर्वार्थ
मन के सवालों का जवाब नही
मन के सवालों का जवाब नही
भरत कुमार सोलंकी
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
वक़्त के साथ खंडहर में
वक़्त के साथ खंडहर में "इमारतें" तब्दील हो सकती हैं, "इबारतें
*Author प्रणय प्रभात*
लिया समय ने करवट
लिया समय ने करवट
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
होली के मजे अब कुछ खास नही
होली के मजे अब कुछ खास नही
Rituraj shivem verma
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
Gouri tiwari
Loading...