Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2022 · 1 min read

मनुवादी व्यवस्था

जिसमें रूढ़िवादी हो देश नहीं
जिसमें पाखंडी हो समाज नहीं!
और चाहे कोई राज हो लेकिन
वह हरगिज़ मनु का राज नहीं!!
जिसमें नब्बे फीसदी अवाम के
सारे मानवाधिकार ही छिन गए!
आप लोगों को हो तो हो लेकिन
हमें उस व्यवस्था पर नाज़ नहीं!!
#अंबेडकर #ओशो #मनुस्मृति
#जाति_प्रथा #वर्ण_व्यव्यवस्था

Language: Hindi
170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
2662.*पूर्णिका*
2662.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
वह
वह
Lalit Singh thakur
*चंदा (बाल कविता)*
*चंदा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
"सत्ता से संगठम में जाना"
*प्रणय प्रभात*
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
प्रेम तुझे जा मुक्त किया
Neelam Sharma
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
शब का आँचल है मेरे दिल की दुआएँ,
शब का आँचल है मेरे दिल की दुआएँ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
यह दुनिया है जनाब
यह दुनिया है जनाब
Naushaba Suriya
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
Loading...