Sep 6, 2016 · 1 min read

मनहर घनाक्षरी छंद

“मनहर घनाक्षरी”

सुबह की लाली लिए, अपनी सवारी लिए, सूरज निकलता है, जश्न तो मनाइए
नित्य प्रति क्रिया कर्म, साथ लिए मर्म धर्म, सुबह शाम रात की, चाँदनी नहाइए
कहत कवित्त कवि, दिल में उछाह भरि, स्वस्थ स्नेह करुणा को, हिल मिल गाइए
रखिए अनेको चाह, सुख दुःख साथ साथ, महिमा मानवता की, प्रभाती सुनाइए।।

देखिए सुजान आप, साथ साथ माई बाप, घर परिवार संग, स्नेह दुलराइए
करत विनोद हास्य, मीठी बोली आस पास, वन बाग़ घर द्वार, जगत हंसाइए
छल कपट कटुता, उगाए नहीं प्रभुता, प्यार की जमीन लिए, पौध बन जाइए
आइए मिलाएं हाथ, साथ कहें सुप्रभात, पेड़ो की छाया में, बैठिए बिठाइए।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

539 Views
You may also like:
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
# हे राम ...
Chinta netam मन
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हमारी जां।
Taj Mohammad
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
धरती की फरियाद
Anamika Singh
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
वसंत का संदेश
Anamika Singh
एक संकल्प
Aditya Prakash
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
लत...
Sapna K S
अजीब कशमकश
Anjana Jain
# मां ...
Chinta netam मन
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
Loading...