Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 22, 2016 · 1 min read

मनहरण घनाक्षरी / कैसी सरकार है.

मेरा भी कहा न माने, तेरा भी कहा न माने,
किसी का कहा न माने, कैसी सरकार है
सुने ये गरीब की ना, सुने ये अमीर की ही,
सुने नहीं बात कोई, जीना दुशवार है
बाजारों के भाव कभी, गाड़ियों का भाडा देखूं.
देखूँ फौज बेकारों की, लम्बी ये कतार है
उस पर भी ये कर, नित-नित नये-नए,
और नए-नए कर, ले के ये तैयार है ||

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 2 Comments · 402 Views
You may also like:
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
पिता
Meenakshi Nagar
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समय ।
Kanchan sarda Malu
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
पिता
Kanchan Khanna
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
Loading...