Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

हो दिल से दिल का रिश्ता

?????
हो दिल से दिल का रिश्ता,
हो हर इन्सान में फरिश्ता।

बहे ना खून का एक भी कतरा,
आतंकवाद का ना हो खतरा।

सब को मिले रोटी का टुकड़ा,
खुशियों से चमके हर मुखड़ा।

मिलजुल रहे ना करे लफड़ा,
दिल में दर्द ना हो कोई दुखड़ा।

हो ना कोई लाचार बेसहारा,
हर इन्सान को मिले सहारा।

चमके हर किस्मत का सितारा,
ऐसा मधुमय हो नव वर्ष हमारा।
????—लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
" मुरादें पूरी "
DrLakshman Jha Parimal
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
2713.*पूर्णिका*
2713.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
शेखर सिंह
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"नमामि देवी नर्मदे"*
Shashi kala vyas
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
यादें
यादें
Dipak Kumar "Girja"
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
Anamika Tiwari 'annpurna '
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
Loading...