Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

मद्धम-मद्धम……

हलचल सी हुई कुच्छ मद्धम-२
आहट सी हुई कुच्छ मद्धम-२
झरोखों से ज़रा झाँक के देखूँ
दस्तक सी हुई कुच्छ मद्धम-२
शायद कहीं से चाँद है निकला
रौशनी सी हुई कुच्छ मद्धम-२
बीते समय के वो गाने पुराने
गुनगुनाहट सी हुई कुच्छ मद्धम-२
कहाँ यादें होतीं हैं दफ़्न
सरसराहट सी हुई कुच्छ मद्धम-२
सामने जब भी चेहरा वो आया
ख़लिश सी हुई कुच्छ मद्धम-२
सपनों में कभी आ जाते हैं जब भी
धड़कन सी हुई कुच्छ मद्धम-२
हलचल सी हुई कुच्छ मद्धम-२
आहट सी हुई कुच्छ मद्धम-२
-राजेश्वर

479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Rajeshwar Singh
View all
You may also like:
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द का बस
दर्द का बस
Dr fauzia Naseem shad
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
पल
पल
Sangeeta Beniwal
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
किसी औरत से
किसी औरत से
Shekhar Chandra Mitra
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
*हुआ जब साठ का नेता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...