Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

मत भूल खुद को!

मत भूल खुद को

मत सोच, कि तू अकेला है
जहाँ तू फंसा है वह जाल कुछ पल का है
काले मेघ का साया
विशाल है तो क्या?
हर रात के बाद सवेरा है
तू बस हिम्मत मत हार
अपनी लाचारी पर बेबस ना बन
थोड़ी देर थम जा!

अपनी गम की ओखली
किसी को सुना जा
उसे खाली कर जा
तू ना हार मान
तू बन जा अर्जुन
अपने गांडीव की टंकार से
लड़ जा यह महाभारत

ना बन बुजदिल इस दौर में
बस थोड़ी देर थम जा
पहचान बनी है तेरी
बस छींटे पड़ी है उसपे
तेरी कमजोरी की, परेशानी की!!!!
उसे पोंछ डाल
खुद को तराश
बस भूल खुद को
अपने अस्तित्व को
ना
मिटा
खुद
को!
****

सुएता दत्त चौधरी
-फीजी 🇫🇯

Language: Hindi
88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
जाति बनाने वालों काहे बनाई तुमने जाति ?
शेखर सिंह
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
Neeraj Mishra " नीर "
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
धुएं के जद में समाया सारा शहर पूछता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
"तेरे इश्क़ में"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
3145.*पूर्णिका*
3145.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...