Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर

मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
बड़े से बड़ा दरख़्त गिर जाता है
ठेस अगर ख़ुद्दारी पर लग जाए
तो मासूम कबूतर भी बाज़ बन जाता है
©Dhara

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Trishika S Dhara
View all
You may also like:
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
..
..
*प्रणय प्रभात*
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
"आँखों की नमी"
Dr. Kishan tandon kranti
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
पथ पर आगे
पथ पर आगे
surenderpal vaidya
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
Loading...