Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

मतलबी किरदार

एक प्यारा सा रिश्ता,
चाहता था,
तुमने बिगाड़ दी।
लगी थी जो विश्वास की फसल,
उसे उजाड़ दी।

क्यों ! समझती हो खुद को,
तुम रिश्तों के ठेकेदार हो।
सच बोल रहा हूं मैं,
तुम केवल मतलबी किरदार हो।

हां! ज़रूर मैंने , तुम्हारे साथ,
कुछ लम्हें जरूर गुज़ार दी,
मगर तुमने भी कोसा नसीब को,
और गालियां हज़ार दी।

अब जो गुज़ार दी, सो गुज़ार दी,
मगर तुमने भी तब तक हीं बेशुमार प्यार दी,
जबतलक मेरे से रहा काम ,
उसके बाद पूराने कपड़े के तरह उतार दी।

मैं लोगों को पहचानना,
शायद ही जानता था।
जो जो गले लगते थे हमारे,
उनको भी अपना हीं मानता था।

खैर छोड़ो! अब मैंने सीख लिया,
लोगों को कैसे पहचानना है?
तुम्हारे साथ हुई अनुभवों से ही पता चला,
किसे गले लगाना है और किसे उतारना है।

और हां मुझे करना है तय अभी
फासला दूर का,पकड़ लेना साथ ,
मुझसे ज्यादा परवाह करने वाला
किसी हुजूर का।

क्योंकि जमाने में खबर फैल गई है
कि अभी तुम तक बच्ची हो,
वह मैं ही जानता हूं
तुम कितनी सच्ची और अच्छी हो।

Tag: Poem
309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
Ravi Prakash
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
वो मुझे रूठने नही देती।
वो मुझे रूठने नही देती।
Rajendra Kushwaha
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
Dr. Man Mohan Krishna
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
मेरे हिस्से में जितनी वफ़ा थी, मैंने लूटा दिया,
मेरे हिस्से में जितनी वफ़ा थी, मैंने लूटा दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
Ranjeet kumar patre
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
.
.
Amulyaa Ratan
"जीवन का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
😢आतंकी हमला😢
😢आतंकी हमला😢
*प्रणय प्रभात*
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
एकांत
एकांत
Monika Verma
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
Loading...