Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

मतदान

दीप प्रज्ज्वलित करते, व शुभ दिन है आज।
वोटर के मन को जीतने, नेता करते आगाज।।

हाथ जोड़ वह करते रहे, विनती सुबह शाम।
हम मत दान के दिवस तक, नेताओं के श्याम।।

अभी पूछ दबी नेता की, हम वोटर के हाथ।
नेतृत्व ऐसा चुन लेना, रखता सब को साथ।।

शिक्षा, सुरक्षा, स्वास्थ, पर रखना हे ध्यान।
बोतल व बॉटि छोड़ कर, करना अब मतदान।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंजिलें भी दर्द देती हैं
मंजिलें भी दर्द देती हैं
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
Phoolo ki wo shatir  kaliya
Phoolo ki wo shatir kaliya
Sakshi Tripathi
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"Don't be fooled by fancy appearances, for true substance li
Manisha Manjari
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
■ सुबह-सुबह का ज्ञान।।
*Author प्रणय प्रभात*
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
सच तो रंग होते हैं।
सच तो रंग होते हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...