Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

****मतदान करो****

अधिकारों का प्रयोग करके
अविलंब,कर्तव्य निर्वाह करो
शीघ्र आज प्रस्थान करो
आलस्य त्याग मतदान करो।

चुनने का यूँ अवसर आया
इक नई स्वतंत्रता लाया
नवयुग का आज प्रारंभ करो
मतदान कर शुभारंभ करो।

लोकतंत्र की नई परिभाषा
जगाकर इक उज्जवल आशा
कर्तव्यों का अंशदान करो
आलस्य त्याग मतदान करो।

मूल अधिकार उपयोग करना
विकास की नव इभारत लिखना
नवल क्राँति का शंखनाद करो
आलस्य त्याग मतदान करो।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
3248.*पूर्णिका*
3248.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
"क्रन्दन"
Dr. Kishan tandon kranti
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
■ धूर्तता का दौर है जी...
■ धूर्तता का दौर है जी...
*प्रणय प्रभात*
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
Sanjay ' शून्य'
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
दुम
दुम
Rajesh
Loading...