Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

** मण्डप में पहुंचने से पहले **

1991 में दहेज प्रथा पर लिखी कविता

मण्डप में पहुंचने से पहले
ग्राउण्ड में खड़े होकर
विवाह के लिए आये दूल्हे के
अण्डर-ग्राउण्ड होने से पहले
दुल्हन के पिता के कुछ कहने से पहले
दूल्हे के पिता बोल बैठे कुछ ऐसे कि चाहिए हमें
एक मोपेड मण्डप में
पहुंचने से पहले
वरना रहेगी तुम्हारी बेटी
जैसी की तैसी
यह सुनकर बोल बैठी वो ऐसे
नहीं लूटना हमे
इन लुटेरों के हाथों ऐसे
जैसे लूट चुकी हजारों नारियां
वैसे मैं नहीं लूटना चाहती
न ही मैं जलकर
आत्महत्या करना चाहती
मैं चाहती हूं सिर्फ
इन लुटेरों के ख़िलाफ़
खड़ी होकर
इनके द्वारा चलाई
दहेज प्रथा मिटाना
ले जाओ ! यह बारात
नहीं करनी मुझे यह शादी
मण्डप में पहुंचने से पहले
नहीं देख सकती
मैं अपनी बर्बादी ।।
?मधुप बैरागी

Language: Hindi
1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
मैं घर आंगन की पंछी हूं
मैं घर आंगन की पंछी हूं
करन ''केसरा''
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
"पहली नजर"
Dr. Kishan tandon kranti
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
Loading...