Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

” मटको चिड़िया “

” मटको चिड़िया ”
दाने चुगती है वो पार्क में
धीमे धीमे कभी तेजी से
खुश रहती है हरियाली में
मस्ती छाये तब वो उछलती,
आई धीरे से मीनू के पास
हाथ पर रखा दाना खाया
चोंच का आभास था मुझे
संगी संग वो है कुदकती,
मंद मंद हुई थी तब बारिश
खेल खेलने को थी आतुर
फुहार पाकर बरसात की
बारिश में है वो चहकती,
साथ दिया नन्ही संगिनी ने
ऊधम मचाया जब दोनों ने
मटको चाल चले मतवाली
नृत्य मुद्रा में वो फुदकती।

Language: Hindi
1 Like · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
मेरी परछाई बस मेरी निकली
मेरी परछाई बस मेरी निकली
Dr fauzia Naseem shad
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
"बेड़ियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
आप को मरने से सिर्फ आप बचा सकते हैं
आप को मरने से सिर्फ आप बचा सकते हैं
पूर्वार्थ
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-257💐
💐प्रेम कौतुक-257💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संकट मोचन हनुमान जी
संकट मोचन हनुमान जी
Neeraj Agarwal
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*Author प्रणय प्रभात*
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
ग़ज़ल - इश्क़ है
ग़ज़ल - इश्क़ है
Mahendra Narayan
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
Loading...