Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

मजा मुस्कुराने का लेते वही…

मजा मुस्कुराने का लेते वही,
अश्रु धारा नयन से जिनके बही,
श्रेय पाने का पाते हैं फिर फिर वही,
गम खोने का जिनको हुआ है कहीं,

डूब जाने के डर से ही जो डर गये,
सीप का मोती उनको मिला ही नहीं,
जो जूझे ही नहीं जिन्दगी-ए-जंग में,
जीत का सेहरा उनको बंधा भी नहीं,

दायरा सोच का जिनका विकसित रहा,
हर गली गांव में पहचाने गये,
जो सिमट रह गये स्वयं तक ही सदां,
नाम दुनिया ने उनका भी जाना नहीं,

इसीलिए वक्त है, कुछ करो तो सही,
जो करोगे मिलेगा फल भी वही,
है विदित सबको सच है यही साथियो,
बिना कर्म फल कभी मिलता नहीं।

✍️ सुनील सुमन

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sunil Suman
View all
You may also like:
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
शेखर सिंह
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
रूह का छुना
रूह का छुना
Monika Yadav (Rachina)
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
हरे भरे खेत
हरे भरे खेत
जगदीश लववंशी
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
2633.पूर्णिका
2633.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रोना ना तुम।
रोना ना तुम।
Taj Mohammad
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
Ravi Prakash
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
"सच्चाई की ओर"
Dr. Kishan tandon kranti
जवाब दो हम सवाल देंगे।
जवाब दो हम सवाल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
सब बिकाऊ है
सब बिकाऊ है
Dr Mukesh 'Aseemit'
धुन
धुन
Sangeeta Beniwal
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
पर्वत और गिलहरी...
पर्वत और गिलहरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
42...Mutdaarik musamman saalim
42...Mutdaarik musamman saalim
sushil yadav
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
Loading...