Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 2 min read

मज़दूर दिवस विशेष

शमशान के पीछे की भूमि सूनी पड़ी थी
लेकिन अब वहां चहल पहल हो रही थी

शायद एक नया निर्माण होनें को था इसीलिए
मजदूरों की झोपड़ियां किनारे पर बनने लगीं थी

पानी के टैंकर और टीन वाले छत
ऐसी ढ़ेरों झोपड़ियां तैयार हुईं तुरंत फुरंत

खाली पड़ी विशाल बंजर जमीन से
पेड़ों और मलबों को साफ़ किया गया

मजदूरों की यही कहानी होती है
एक नया शहर एक नया विकास

इनका विकास हो या न हो दाल रोटी के लिए
बीबी बच्चों सहित शहर दर शहर भटकते हैं

तब कहीं जाके ए लोग दो जून का भोजन करते हैं
छोटे छोटे से मासूम बच्चे भी इनके साथ होते हैं

माता भी मजदूरी करती हैं,
बचा हुआ समय बच्चों को भोजन भी देती हैं

आज़ इस ज़मीन पर नया निर्माण हो रहा है
कल मॉल बनेगा या अस्पताल का निर्माण होगा

क्या पता क्या होगा लेकिन हो तो रहा है
एक नए विकास की नींव है यहां जो धीरे धीरे पड़ रही है

कल जब मॉल बनेगा तो नौकरियां भी पैदा होंगी
तब सात से आठ हज़ार वेतन पर बीए, बीकॉम ,एम ए वालों को रक्खा जाएगा

काम का समय निश्चित नहीं किया जाएगा
बारह से पंद्रह पन्द्रह घंटे खुला मजदूरी कराया जाएगा

यहां होते शोषण को देख कोई रोकने नहीं आएगा
जितना चाहे ख़ून पिए इन जैसे मजदूरों के

हर कोई व्यापार नहीं कर सकता है
हर कोई नौकरशाह नहीं बन सकता है

लेकिन मेहनत मजदूरी से मॉल्स और होटलों का
मजदूर ज़रूर बन सकता है

आज़ यहां जो भी निर्माण हो रहा है
कल की आधारशिला है

आज़ जो निर्माण हो रहा है
कल के भविष्य को एक रोज़गार मिलेगा

लेकिन क्या केवल यही वो मज़दूर हैं
आज़ तो हर कोई मजबूर हैं मज़दूर बनने को विवश हैं

नौकरी है लेकिन वेतन कम है महंगाई अधिक है,
पैसा बचता ही नहीं है, लोन का बोझ भी अधिक है

सैलरी का इंतज़ार करते हैं महीने में
एक दिन सैलरी मिलती है वो भी एक दिन में गायब हो जाती है

मज़दूर भले ही कम नहीं हो सकते हैं लेकिन
उनका जीवन बेहतर हो सके इतना प्रयत्न कर सकते हैं

इसीलिए मजदूर दिवस एक मई को मनाते हैं
मजदूरों की याद में, क्योंकि मज़दूर भी इन्सान होते हैं

_ सोनम पुनीत दुबे

1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसी
कैसी
manjula chauhan
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
"मुस्कान"
Dr. Kishan tandon kranti
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम।की दुनिया
प्रेम।की दुनिया
भरत कुमार सोलंकी
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वैसे तो चाय पीने का मुझे कोई शौक नहीं
वैसे तो चाय पीने का मुझे कोई शौक नहीं
Sonam Puneet Dubey
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
उसके नाम के 4 हर्फ़ मेरे नाम में भी आती है
Madhuyanka Raj
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
🙅एग्जिट पोल का सार🙅
🙅एग्जिट पोल का सार🙅
*प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
Loading...