Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

मजहब

-: मजहब :-

‘‘ये सब कहने की बाते हैं मास्टर साहब। क्या मुहम्मद इकबाल जी ने नहीं कहा था- ‘मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना।’ फिर उन्होंने पाकिस्तान की माँग क्यों की ?’’

उस देहाती अनपढ़ के मुँह से ये बातें सुनकर समझौता कराने आये मास्टर जी वहाँ से खिसक गये और दोनों गुट फिर से आपस में भिड़ गए।

डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
शेखर सिंह
Exercise is not expensive, Medical bills are.
Exercise is not expensive, Medical bills are.
पूर्वार्थ
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
डी. के. निवातिया
*चार दिवस का है पड़ाव, फिर नूतन यात्रा जारी (वैराग्य गीत)*
*चार दिवस का है पड़ाव, फिर नूतन यात्रा जारी (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अतीत के पन्ने (कविता)
अतीत के पन्ने (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
"अमीर खुसरो"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
Raju Gajbhiye
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आतंकवाद
आतंकवाद
नेताम आर सी
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
मुझे अब भी घर लौटने की चाहत नहीं है साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
लोग कहते हैं कि
लोग कहते हैं कि
VINOD CHAUHAN
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
■ हार के ठेकेदार।।
■ हार के ठेकेदार।।
*प्रणय प्रभात*
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
Loading...