Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

मजबूरी

ज़ाना क्यों ना समझी
तूने मेरी मजबूरी
मेरे अलावा था
सब तेरे लिए जरूरी
हां एक दिन करता जरूर
तेरी सारी wishes पूरी
पर तूने ना समझा
मेरा साथ जरूरी
भले मैं तुझपे कितना भी करू गुस्सा
पर तू ही तो थी ना मेरी कमज़ोरी
भले ‘ जिन्दगी ‘ में मिले सब
पर ‘ चाहत ‘ तो रह गयी ना अधूरी
यदि तू समझता ना मेरी मजबूरी
तो होती तेरी – मेरी life पूरी !

” अब तेरे छोड़ जाने के बाद
मेरा दिल तेरी यादों में खो रहा हैं
किसने कहा मैं अकेला हू पगली
देख तो सही – ये ‘आसमान’ भी मेरे साथ रो रहा हैं ”

The dk poetry

26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
"शीशा और रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
हिलोरे लेता है
हिलोरे लेता है
हिमांशु Kulshrestha
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महाकाल
महाकाल
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बेटी हूँ माँ तेरी
बेटी हूँ माँ तेरी
Deepesh purohit
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
Loading...