Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

मजबूत रिश्ता

एक पल को मोहताज नहीं,
जीवन मे एहसास नहीं,
सदियों से नहीं बिखर सका,
रिश्ते मे कुछ खास है बाकी।

कैसा भी हो,
कुछ भी हो अनबन,
छुपा हुआ है राज दफ़न,
रिश्ते के खातिर साध मन।

मजबूत बना एहसासों को छू कर,
हृदय की धड़कन साँसो से जुड़कर,
जीते जी आँखों मे बसता,
लहू से नहीं होता एक रिश्ता।

प्रीत रीत सम्मान बारिक,
त्याग तप धैर्य से हो मीत,
परवाह करते रहते जो,
अटूट विश्वास मजबूत रिश्तों की नीव।

रचनाकार –
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
LALSA
LALSA
Raju Gajbhiye
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो हर पल याद आएगा
जो हर पल याद आएगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
ख़ामोशी में लफ़्ज़ हैं,
ख़ामोशी में लफ़्ज़ हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
समय
समय
Neeraj Agarwal
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
जीवन
जीवन
नन्दलाल सुथार "राही"
मच्छर दादा
मच्छर दादा
Dr Archana Gupta
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...