Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

‘मजदूर’

‘मजदूर’
मैं मजदूर हूँ थोड़ा मजबूर हूँ
घर द्वार को छोड़ छाड़कर
सबसे दूर हूँ।
मैं मजदूर हूँ…..
खाता रूखी सूखी हूँ मैं
भर भर पीता लोटा पानी
सुबह से शाम तक खटता हूँ मैं
कहलाता अज्ञानी.
थककर चूर हूँ
मैं मजदूर हूँ.
घर द्वार को छोड़ छाड़कर
सबसे दूर हूँ।
सिर पर ढोता ईंट और गारा
कंधे पर बोझ उठाता सारा
आलस से दूर हूँ
मैं मजदूर हूँ
घर द्वार को छोड़ छाड़कर
सबसे दूर हूँ।
बच्चे -बूढ़े घर मेरे भी
हैं सब वो चितेरे मेरे भी
उनसे दूर हूँ
मै मजदूर हूँ
घर द्वार को छोड़ छाड़कर
सबसे दूर हूँ।
बिन मेरे कोई चले न काम
करता नहीं हूँ मैं आराम
ईश्वर का नूर हूँ
मैं मजदूर हूँ
घर द्वार को छोड़ छाड़कर
सबसे दूर हूँ।
मैं मजदूर हूँ….मैं मजदूर हूँ
मैं…………मैं………।

गोदाम्बरी नेगी

Language: Hindi
Tag: Poem
1 Like · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Godambari Negi
View all
You may also like:
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
Harminder Kaur
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
यह कैसा पागलपन?
यह कैसा पागलपन?
Dr. Kishan tandon kranti
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
एक आंसू
एक आंसू
Surinder blackpen
बुंदेली दोहा-नदारौ
बुंदेली दोहा-नदारौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब देख लेने दो वो मंज़िल, जी भर के साकी,
अब देख लेने दो वो मंज़िल, जी भर के साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
पलकों में शबाब रखता हूँ।
पलकों में शबाब रखता हूँ।
sushil sarna
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
हमें दुख देकर खुश हुए थे आप
ruby kumari
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
2630.पूर्णिका
2630.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅ताज़ा सुझाव🙅
🙅ताज़ा सुझाव🙅
*प्रणय प्रभात*
Loading...