Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 2, 2022 · 1 min read

मजदूर हूॅं साहब

दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष करता हूं।
मेरे बच्चे पढ़ जाए
इसीलिए दिन रात मेहनत करता हूं।
कभी ईंट की भट्ठीयों में जलता हूं
कभी सड़कों के किनारे सोता हूं
बस यही सपने लिए फिरता हूं
कि मेरी आने वाली पीढ़ी मेरे जैसा संघर्ष ना करें।

मैं फटा पुराना सब पहनता हूं साब
कभी नमक के साथ रोटी खाता हूं
कभी पानी पी कर सो जाता हूं
बस यही मन से पुकार करता हूं
कि मेरे बच्चे मेरे जैसे दर-दर की ठोकर ना खाएं।

मैं टूटे छत के घर में रहता हूं साब
कभी ठंड में ठिठुरता हूं
कभी गर्मी की लू में जलता हूं
बस यही हमेशा उम्मीद करता हूं
कि मेरे अपने मेरे जैसे कठिनाइयों से ना लड़े।

– दीपक कोहली

1 Like · 3 Comments · 85 Views
You may also like:
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
संगम....
Dr. Alpa H. Amin
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अंदाज़।
Taj Mohammad
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब
"अशांत" शेखर
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
कोहिनूर
Dr.sima
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मां
Anjana Jain
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
* उदासी *
Dr. Alpa H. Amin
नारियल
Buddha Prakash
Loading...