Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 2 min read

मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)

सुनो आलीशान कोठियों में रहने वालों !
रहते हो जहां तुम बड़े शान से ।
बनाई गई है इन्हीं मजदूरों की मेहनत ,
और दिन रात बहने वाले खून पसीने से ।

यह बड़े बड़े होटल जहां तुम ,
अति उत्तम भोजन का लुत्फ उठाने जाते हो ।
जीवन में शायद ही कभी सुख लें सके इनका,
वोह गरीब मजदूर जिनको हेय तुम समझते हो ,
यह भी कठिन परिश्रम का फल है इनका ।

घर ,मकान ,होटल , इमारते ,खेल खलिहान ,
या कोई भी भवन निर्माण या पूल ।
किसी भी शहर के विकास के चिन्ह है जो ,
बिना मजदूरों के सहयोग से संभव नहीं ,
मगर स्वयं विकास के लाभ से रहते हैं गुल।

जाने कहां कहां से दूर दराज के गांवों ,
कस्बों से आते है शहर में कई सपने लिए ।
अभिजात्य वर्ग हेतु आलीशान मकान बनाते ,
खुद एक झोपड़ी भी नसीब नहीं होती रहने के लिए ।

कारखानों में भी जी तोड़ काम करते ,
मगर पगार में पाते चंद पैसे ।
ना जाने कैसे इनका गुजारा होता होगा ,
जिंदगी चलती होगी जैसे तैसे।

पुरुष और महिला और कभी कभी ,
नन्हे बच्चे भी मजदूरी करते है दिखते ।
सुबह शाम काम कर बेचारे ,
थके मंदे कई बार भूखे ही सो जाते ।

जिनके दम पर देश के विकास खड़ा,
करती है सरकार इन्हीं को अनदेखा क्यों ?
देश के नागरिक हैं यह भी ,मतदान करते हैं,
फिर करती है मूलभूत सुविधाओं से इन्हें वंचित क्यों ?

मजदूर विकास की नींव ,
इसे मजबूत बनाना सबका कर्तव्य है ।
कल्पना भी नहीं कर सकते अपनी खुशहाली की ,
जब तक मजदूर न हो सुखी यही सत्य है ।

Language: Hindi
3 Likes · 507 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
💐अज्ञात के प्रति-31💐
💐अज्ञात के प्रति-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
कैसे तेरा दीदार करूँ
कैसे तेरा दीदार करूँ
VINOD CHAUHAN
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
रामधारी सिंह दिवाकर की कहानी 'गाँठ' का मंचन
आनंद प्रवीण
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
* शुभ परिवर्तन *
* शुभ परिवर्तन *
surenderpal vaidya
"ना भूलें"
Dr. Kishan tandon kranti
बिन तेरे ज़िंदगी अधूरी है
बिन तेरे ज़िंदगी अधूरी है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
DrLakshman Jha Parimal
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
"अब के चुनाव"
*Author प्रणय प्रभात*
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
Loading...