Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

*”मजदूर की दो जून रोटी”*

“मजदूर की दो जून रोटी”
मेहनतकश मजदूर कठिन परिश्रम करता ,
रोजी रोटी की जुगाड़ में पसीना बहाते मजूरी करता।
अचानक आये ये आपदा से बिखर गया निसहाय खड़ा रहता।
श्रमिक वर्ग मजदूर के बिना रुक गया है भवन निर्माण सृजनहार उसे ढूंढता।
बहुमंजिला इमारतें बनाता नींव खोद कर भारी भरकम पत्थर है तोड़ता।
मेहनतकश मजदूर जगवालों से अपना हिस्सा मांगता ।
वो सेठ , साहूकार, ठेकेदारों से अमीरों से अपना हक मांगते फिरता।
भीषण गर्मी भरी दोपहरी ,ठंडी हवाओं में या बारिश की तूफ़ानों में डटकर मेहनत करता।
पसीने की बूंद गिराकर जी जान से फौलादी सीना वाला बेघर भूखे प्यासे काम करता।
दो जून की रोटी पापी पेट की खातिर जमाने भर का कोई भी काम करने आतुर रहता।
कठिन परिश्रम करते हुए सदा पसीना बहा आज चिंतनीय अवस्था में उदासीन रहता।
श्रम की कीमत मिले या न मिले विपरीत परिस्थितियों में भी अडिग रहता।
रोजी रोटी की तलाश में दर दर भटकते अब एक जगह ही बैठे रहते पलायन करता।
जीने का लक्ष्य बनाकर थोडी सी चीजों में ही संतुष्ट जीवन है जीता।
प्रगति के पथपर तिहाडी मजदूर असंतुलित होकर कर्मनिष्ठ है बनता।
हम सभी के जीवनकाल में खुशियों का रूप दिखला कर विश्वकर्मा बन जाता।
शशिकला व्यास शिल्पी ✍️

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
Shweta Soni
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
*जाता दिखता इंडिया, आता भारतवर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
Shiva Awasthi
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*ट्रक का ज्ञान*
*ट्रक का ज्ञान*
Dr. Priya Gupta
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
शेखर सिंह
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/127.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...