Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2019 · 1 min read

मच्छर

हाय कहाँ से आ गया,ये मच्छर शैतान।
मटक-मटक कर घूमता,अपना सीना तान।।

मच्छर है खच्चर बहुत, जड़ूँ उसे दो चाट।
मुझे अकेला देख कर, झट से लेता काट।।

जूँ-जूँ कर के रात भर,गाता है मल्हार।
शहनाई-सी चोच से,बहुत जताता प्यार।।

दिखता है छोटा मगर, बहुत बड़ा शैतान।
मलेरिया डेंगू के जनक, लेगें क्षण में जान।।
-लक्षमी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
405 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक बार हीं
एक बार हीं
Shweta Soni
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बहुत दाम हो गए
बहुत दाम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
जो ख़ुद आरक्षण के बूते सत्ता के मज़े लूट रहा है, वो इसे काहे ख
जो ख़ुद आरक्षण के बूते सत्ता के मज़े लूट रहा है, वो इसे काहे ख
*प्रणय प्रभात*
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
तुमसे रूठने का सवाल ही नहीं है ...
तुमसे रूठने का सवाल ही नहीं है ...
SURYA PRAKASH SHARMA
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदगी बस एक सोच है।
जिंदगी बस एक सोच है।
Neeraj Agarwal
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
sudhir kumar
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
Loading...