Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

मगर जाता है

क्यूँ बताता है नहीं दोस्त किधर जाता है
और जाता है तो किस यार के घर जाता है

पास आ मेरे सनम जा न कहीं आज की रात
या मुझे लेके चले साथ, जिधर जाता है

तू जो आ जाये है पल को ही तसव्वुर में सही
साँस रुक जाती है और वक़्त ठहर जाता है

हूक उट्ठे है वो शब वस्ल की याद आए है जब
एक ख़ंजर सा कलेजे में उतर जाता है

मैंने रोका तो बहुत तेरी तरफ़ जाने से
जी कहा भी के न जाऊँगा मगर जाता है

राज़ तो फ़ाश हो जाएगा ज़फ़ाई का तेरा
अब जनाज़े से मेरे उठके अगर जाता है

छोड़कर जाम मेरी मस्त नज़र का ग़ाफ़िल
आजकल दर से मेरे यूँ ही गुज़र जाता है

-‘ग़ाफ़िल’

214 Views
You may also like:
मैं तो चाहता हूँ कि
gurudeenverma198
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
क्युं नहीं
Seema 'Tu hai na'
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
डॉक्टर कर्ण सिंह से एक मुलाकात
Ravi Prakash
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्म का मर्म
Pooja Singh
तुम्हारे हाथों में।
Taj Mohammad
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
poem
पंकज ललितपुर
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
मुल्क के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️गलत बात है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कितना अंदर से
Dr fauzia Naseem shad
देह मिलन
Kavita Chouhan
मैं आ रहा हूं ना बस यही बताना चाहतें हो...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
क्षमा याचना दिवस
Ram Krishan Rastogi
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
न कोई चाहत
Ray's Gupta
Loading...