Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

मखमली बदन

अक्षर-दर-अक्षर
शब्द-दर-शब्द
जोड़कर बनाता हूँ
कुछ पंक्तियाँ…
कुछ गीत…
कुछ कविताएँ…
जिन्हे उतारना चाहता हूँ
तुम्हारे मखमली बदन के केनवास पर
तुम्हारे प्रेम के रंग में…..रंग कर

Suneel Pushkarna

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 455 Views
You may also like:
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
आत्मनिर्णय का अधिकार
Shekhar Chandra Mitra
दुनिया एक मेला है
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक तस्वीर तुम्हारी
Buddha Prakash
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
कितने रूप तुम्हारे देखे
Shivkumar Bilagrami
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
"दोस्त"
Lohit Tamta
दोस्ती -ईश्वर का रूप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
सर्दी जुकाम का आयुर्वेदिक उपचार
लक्ष्मी सिंह
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
*दोराहे पर खड़े हैं सहायता प्राप्त (एडेड) इंटर कॉलेज*
Ravi Prakash
सीख
Pakhi Jain
अल्लादीन का चिराग़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुनो ना
shabina. Naaz
पंछी ने एक दिन उड़ जाना है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...