Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

मकानों में रख लिया

मकानों में रख लिया

था जिन दियों में तेल मकानों में रख लिया।
खाली दियों को तुमने मचानों पे रख दिया ।।
उत्तर थे मेरे पास तुमने छीन सब लिये।
फिर मुझको सवालों के निशानों पे रख दिया ।।
छीनी किसानों की जमीं और तिजोरी भर ली।
छीना धरती माँ को दुकानों पे रख दिया ।।
मेरे तुम्हारे बीच जोशीदा करार था।
महफिल में तुमने हरेक जवानों पे रख दिया ।।
आकाश है माँ वक्त ने हमको उतार कर ।
धड़काया और फिर कब्र के खानों में रख दिया ।।
🖋️डॉ.के.के. श्रीवास्तव🖋️

Language: Hindi
2 Likes · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*जटायु (कुंडलिया)*
*जटायु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
मत देख कि कितनी बार  हम  तोड़े  जाते  हैं
मत देख कि कितनी बार हम तोड़े जाते हैं
Anil Mishra Prahari
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
ये साला टमाटर
ये साला टमाटर
*प्रणय प्रभात*
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
चील .....
चील .....
sushil sarna
Mushaakil musaddas saalim
Mushaakil musaddas saalim
sushil yadav
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
Diwakar Mahto
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुद को रखती हूं मैं
खुद को रखती हूं मैं
Dr fauzia Naseem shad
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
VINOD CHAUHAN
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक अधूरे सफ़र के
एक अधूरे सफ़र के
हिमांशु Kulshrestha
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...