Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

मकसद ……!

मकसद ……!
लेकर चल ज़िंदगी में।
देखना
बिन बताये गुजर जायेगी I

2 Likes · 1 Comment · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निराला का मुक्त छंद
निराला का मुक्त छंद
Shweta Soni
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
■ सवालिया शेर-
■ सवालिया शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"असल बीमारी"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
gurudeenverma198
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
ज़िंदगी हम भी
ज़िंदगी हम भी
Dr fauzia Naseem shad
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
साज सजाए बैठा जग के, सच से हो अंजान।
साज सजाए बैठा जग के, सच से हो अंजान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...