Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 2 min read

*मकर संक्रांति पर्व”*

मकर संक्रांति पर्व”
मकर संक्रांति की ऐतिहासिक मान्यताएं –
ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उनके घर जातें हैं चूंकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी है अतः इस दिन के पर्व का नाम मकर संक्रांति से ही जाना जाता है।
महाभारत काल में भी भीष्म पितामह ने अपनी देह त्यागने के लिए इसी दिन याने मकर संक्रांति के दिन का ही चयन किया था।मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी भागीरथ के पीछे पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई सागर में जाकर मिल गई थी।
मकर संक्रांति के दिन सुबह सबेरे उठकर गंगा नदी में स्नान करते हुए सूर्य देव को अर्द्ध दिया जाता है अगर गंगा नदी में जाना संभव नहीं हो तो घर पर ही गंगा जल , तिल डालकर स्नान करें।
सूर्य देव को जल देते हुए स्वस्थ निरोगी काया के लिए वरदान मांगे सभी देवी देवताओं की पूजन कर तिल गुड़ से बने लड्डू गजक ,खिचड़ी आदि भोज्य पदार्थ से भोग लगाएं।
इसके बाद मंदिर में दान पुण्य कर सभी लोगों में भी प्रसादी वितरण कर सुहागिनों को सुहाग सामान बांटकर एक दूसरे से संकल्प लें।
तिल गुड़ की मिठास की तरह से सभी जनों की वाणी में भी मिठास घुली रहें।
मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने का भी रिवाज है रंग बिरंगी सतरँगी पतंगबाजी आसमान में उड़ते हुए नजर आती है और यह नजारा अदभुत होता है।
खेतों में फसलें लहलहाती हुई दिखाई देती है सरसों की पीली फूलों से खलिहानों में ऐसा लगता है मानो धरती ने पीली चादर ओढ़े बसंती बयार सी दिखने लगती है।
चारों दिशाओं में बसंत पंचमी की कुछ छटाओं का नजारा देखने को मिलता है।
मकर संक्रांति के बाद फागुन माह की तैयारियों का मौसम झलकने लगता है।
मकर संक्रांति की दुआओं का असर बेइंतहा खुशियों को लेकर नव वर्ष के आगमन पर दस्तक दे दरवाजे पर खड़ा हुआ है …….! !
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं
शशिकला व्यास✍🙏🌹
जय श्री राधेय

119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
" जय भारत-जय गणतंत्र ! "
Surya Barman
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
प्रेम
प्रेम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🙅दद्दू कहिन🙅
🙅दद्दू कहिन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-407💐
💐प्रेम कौतुक-407💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
ख़ान इशरत परवेज़
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
Loading...