Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2023 · 2 min read

मंटू और चिड़ियाँ

बाल कहानी- मंटू और चिड़िया
——————-

बारिश का दिन था। सब तरफ हरा-भरा खूबसूरत नज़ारा था। मंटू खिड़की के पास चुपचाप बैठा बाहर की ओर देख रहा था कि कैसे बारिश बन्द हो और वह दोस्तों के साथ बाहर खेलने जाये।
अचानक उसकी नज़र आँगन की तरफ़ पड़ी। उसे कुछ गिरने की आवाज़ सुनायी दी। मंटू आँगन की तरफ़ दौड़कर गया तो उसने देखा कि एक खूबसूरत सी चिड़िया भींगी-सी नीचे पड़ी है। वह अपने भींगे-भींगे परों से उड़ने का प्रयास कर रही थी, पर वह जमीन पर बार बार गिर रही है। मंटू को लगा कि चिड़िया शायद घायल है, पर मंटू ने जब चिड़िया को गोद में उठाया तो वह पल में समझ गया कि चिड़िया घायल नहीं बल्कि भींगी है, इसलिए ठण्ड से कँपकपा रही हैं। मंटू ने तुरन्त तौलिया उठाया और चिड़िया को अच्छी तरह से पोंछ दिया।
कुछ देर बाद चिड़िया चहचहाने लगी। मंटू ने चिड़िया को दाना पानी दिया। चिड़िया चूँ-चूँ करते खूब मस्ती से खाने-पीने लगी, जैसे वह मंटू को बहुत दिनों से जानती हो। मंटू को भी चिड़िया का साथ बहुत पसन्द आया।
मंटू और चिड़िया कुछ देर एक-दूसरे के साथ खेलते रहे। कुछ देर बाद मंटू ने चिड़िया को एक बड़े से डब्बे मे बन्द कर दिया और डब्बे के अन्दर छोटे-छोटे छेद कर दिये ताकि चिड़िया को हवा लग सके। पर जैसे ही चिड़िया डब्बे में कैद हुई। चिड़िया खामोश होकर चुपचाप बैठ गयी। मंटू के लाख आवाज देने पर चिड़िया ने जवाब नहीं दिया।
मंटू ने चिड़िया को डब्बे के अन्दर झाँककर देखा तो उसे चिड़िया दुःखी दिखाई दी। मंटू से रहा नहीं गया। मंटू ने चिड़िया को डब्बे से बाहर निकालकर हाथ से पकड़ लिया। चिड़िया फिर चूँ-चूँ करने लगी। चिड़िया को चूँ-चूँ करते देख मंटू समझ गया कि चिड़िया अपने घर जाने को कह रही है। मंटू ने खुशी-खुशी चिड़िया को आजाद कर दिया।

शिक्षा
हमें हमारे परिवेश में संकट में पड़े किसी भी प्राणी की सदैव सहायता और रक्षा करनी चाहिए।

शमा परवीन
बहराइच (उत्तर प्रदेश)

1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सहधर्मनी
सहधर्मनी
Bodhisatva kastooriya
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
सेवा जोहार
सेवा जोहार
नेताम आर सी
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
नैतिकता का इतना
नैतिकता का इतना
Dr fauzia Naseem shad
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"डर"
Dr. Kishan tandon kranti
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
एक कहानी- पुरानी यादें
एक कहानी- पुरानी यादें
Neeraj Agarwal
* बातें व्यर्थ की *
* बातें व्यर्थ की *
surenderpal vaidya
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
Loading...