Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

मंगल मय हो यह वसुंधरा

मंगल मय हो यह वसुंधरा
सकल भारत भूमि समेत
सब एक दूजे के मान के
प्रति भी सतत रहें सचेत
ज्ञान और विवेक की दृष्टि
से जन जन हो अति समृद्ध
तब सब यहां आनंदित रहेंगे
बच्चे,युवा, नर, नारी औ वृद्ध
सब देवी, देवताओं की कृपा
हम पर बरसती रहे दिन रात
ताकि मानवता के कल्याण में
हम भी बंटा सकें अपना हाथ
नारायण से दोऊ हाथ जोड़ कर
नित यही विनती करता उमेश
हे प्रभु सन्मति और सद्मार्ग दे
जीवन को बनाना आपही विशेष

Language: Hindi
1 Like · 323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"वेश्या"
Dr. Kishan tandon kranti
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Seema gupta,Alwar
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पेड़ों की छाया और बुजुर्गों का साया
पेड़ों की छाया और बुजुर्गों का साया
VINOD CHAUHAN
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
मैं अपनी आँख का ऐसा कोई एक ख्वाब हो जाऊँ
Shweta Soni
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
तुमने - दीपक नीलपदम्
तुमने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...