Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

भ्रम

हर कोई अपने आप के एक भ्रम मे जी रहा है ,
कभी संबंधों के, तो कभी अनुबंधों के ,
कभी अपेक्षा के, तो कभी प्रतीक्षा के ,
कभी भाग्य के, तो कभी त्याग के ,
कभी वरीयता के , तो कभी गोपनीयता के,
कभी सम्मान के , तो कभी अभिमान के,
कभी प्रेमासक्ति के, तो कभी स्वशक्ति के ,
कभी व्यवहार के , तो कभी विचार के ,
कभी सुंदरता के , तो कभी संपन्नता के ,
कभी मान्यताओं के , तो कभी धारणाओं के,
कभी कल्पनाओं के , तो कभी भावनाओं के,
कभी स्वामित्व के , तो कभी आधिपत्य के ,
कभी सिद्धि के , तो कभी प्रसिद्धि के,
कभी विजेता के , तो कभी श्रेष्ठता के,
मानवजीवन आविर्भाव से अवसान तक,
इस भ्रम से पार न पा सका अब तक।

Language: Hindi
1 Like · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"मित्रों से जुड़ना "
DrLakshman Jha Parimal
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
VINOD CHAUHAN
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
Ravi Prakash
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
साथ
साथ
Neeraj Agarwal
दुखों का भार
दुखों का भार
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
The News of Global Nation
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
दूर कहीं जब मीत पुकारे
दूर कहीं जब मीत पुकारे
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
दूरी सोचूं तो...
दूरी सोचूं तो...
Raghuvir GS Jatav
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...