Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

भोले

प्रीत करे जब भोले की, मोह माया फिर न होए।
वन पहाड़ विचरण करे, और रहे श्मशान मे खोए।

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
'अशांत' शेखर
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*अग्रोहा फिर से मिले, फिर से राजा अग्र (कुंडलिया)*
*अग्रोहा फिर से मिले, फिर से राजा अग्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
इश्क़ ❤️
इश्क़ ❤️
Skanda Joshi
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
"नशा इन्तजार का"
Dr. Kishan tandon kranti
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
गेसू सारे आबनूसी,
गेसू सारे आबनूसी,
Satish Srijan
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
Loading...