Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

भोले शंकर ।

भोले शंकर ।

कण-कण में हैं शिव बसे, बूँद-बूँद में राम
घट- घट में साकार हैं, मेरे प्रिय घनश्याम।
a m prahari

1 Like · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
Bodhisatva kastooriya
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
2400.पूर्णिका
2400.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
शुरुवात जरूरी है...!!
शुरुवात जरूरी है...!!
Shyam Pandey
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"विनती बारम्बार"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
आवाज़ दीजिए Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
*Author प्रणय प्रभात*
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"आया मित्र करौंदा.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
Loading...