Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2023 · 1 min read

भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।

भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
बिन कहे शीतल हवा भी बह रही है।
ओस भी चुपचाप टपकी जा रही जब।
कालिमा की सब दीवारें ढह रही है।
~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १८/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
मुक्तक _ दिखावे को ....
मुक्तक _ दिखावे को ....
Neelofar Khan
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
DrLakshman Jha Parimal
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
ज़िंदगी का सफ़र
ज़िंदगी का सफ़र
Dr fauzia Naseem shad
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
पूर्वार्थ
*ससुराल का स्वर्ण-युग (हास्य-व्यंग्य)*
*ससुराल का स्वर्ण-युग (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यह कौनसा आया अब नया दौर है
यह कौनसा आया अब नया दौर है
gurudeenverma198
शिवाजी
शिवाजी
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
देवराज यादव
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
My Chic Abuela🤍
My Chic Abuela🤍
Natasha Stephen
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
Loading...