Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

भोर की किरण……

बीत गया जो उसे बीत जाने दे….
दिल दुखाये जो बात उसे भूल जाने दे….
नफरत हटा प्यार को बिखरने दे ज़रा…
फिर दिल से दिल का दीप जल जाने दे….

न ख़ुशी न गम रहता जहां में है सदा…
प्यार ही बस महकता है हर दिल में सदा…
वक़्त कैसा भी हो रुकता नहीं टिक कर….
रात का अंत भी तय है भोर की किरण दे है सदा…

Language: Hindi
541 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from CM Sharma
View all
You may also like:
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
पूर्वार्थ
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
■ इस बार 59 दिन का सावन
■ इस बार 59 दिन का सावन
*Author प्रणय प्रभात*
"शहर की याद"
Dr. Kishan tandon kranti
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
मर्त्य ( कुंडलिया )
मर्त्य ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
जाते-जाते गुस्सा करके,
जाते-जाते गुस्सा करके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संत रविदास!
संत रविदास!
Bodhisatva kastooriya
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
दुष्यन्त 'बाबा'
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
Loading...