Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

भोर अगर है जिंदगी,

भोर अगर है जिंदगी,
साँझ अन्त का बिम्ब ।
रैन मौन संघर्ष का,
जीवित आशा डिम्ब ।।

सुशील सरना / 21-1-24

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
"हार्दिक स्वागत"
Dr. Kishan tandon kranti
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
Ravi Prakash
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अर्ज किया है
अर्ज किया है
पूर्वार्थ
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
*****जीवन रंग*****
*****जीवन रंग*****
Kavita Chouhan
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
वफा करो हमसे,
वफा करो हमसे,
Dr. Man Mohan Krishna
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...