Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 2 min read

भूख —- लघु कथा

भूख

लघु कथा

मनूर जैसा काला, तमतमाया चेहरा,धूँयाँ सी मटमैली आँखें,पीडे हुये गन्ने जैसा सूखा शरीर ,साथ मे पतले से बीमार बच्चे का हाथ पकडे वो सरकारी अस्पताल मे डाक्टर के कमरे के आगे

लाईन मे खडा अपनी बारी की इन्तज़ार कर रहा था। मैं सामने खडी बडे देर से उसकी बेचैनी देख रही थी। मुझे लगा उसे जरूर कोई बडी तकलीफ है। वैसे तो हर मरीज बेचैनी और तकलीफ मे होता है मगर मुझे लगा कि उसके अन्दर जैसे कुछ सुलग रहा है, क्यों कि वो अपने एक हाथ की बन्द मुट्ठी को बार बार दबा रहा था– और बच्चा जब भी उसकी उस मुट्ठी को छूता वो उसे और जोर से बन्द कर लेता।मुझ से रहा न गया,सोचा पता नही बेचारे को कितनी तकलीफ हो,शायद मैं उसकी कुछ सहायता कर सकूँ।—

*भाई साहिब क्या बात है?आप बहुत परेशान लग रहे हैं?* मैने उससे पूछा।

* बहन जी कोई बात नही,बच्चा बिमार है, डाक्टर को दिखाना है। * वो कुछ संभलते हुये बोला।

फिर आप बच्चे को क्यों झकझोर रहे है, मुट्ठियाँ भीँच कर बच्चे पर गुस्सा क्यों कर रहे हैं?*

*क्या बताऊँ बहन जी, मेरा बच्चा कई दिन से बीमार है। और भरपेट रोटी न दे सकने से भूख से भी बेहाल है।कुछ खाने के लिये मचल रहा है।इस बन्द मुट्ठी मे पकडे पैसों को जो कि मेरा दो दिन की कमाई है इसकी भूख से बचा रहा हूँ।इसे समझा भी रहा हूँ कि बेटा तेरे पेट की भूख से बडी पैसे की भूख है इन पैसों से डाक्टर की पैसे की भूख मिटाऊँगा तब तेरा इलाज होगा। भला गरीब का क्या दो दिन न भी खाने को मिले जी लेगा। मुझे डर है कि मेरी बारी आने से पहले मुझे इसकी भूख तडपा न जाये और डाक्टर की भूख पर डाका डाल ले।* उसकी बात सुन कर मैं सोच रही हूँ कि जब डाक्टर को सरकार से तन्ख्वाह भी मिलती है फिर भी उसे पैसे की भूख है तो इस गरीब की दो दिन की कमाई केवल डाक्टर की फीस चुकाने मे लग जायेगी तो ये परिवार को खिलायेगा क्या??????????? क्या कोई डाक्टर जवाब दे सकेगा?

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
2 Comments · 831 Views
You may also like:
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
गलतफहमी है दोस्त यह तुम्हारी
gurudeenverma198
कौन उठाए आवाज, आखिर इस युद्ध तंत्र के खिलाफ?
AJAY AMITABH SUMAN
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल ,...
Subhash Singhai
संविधान बचाओ आंदोलन
Shekhar Chandra Mitra
*घर को भी चमकाओ (बाल कविता/हास्य कविता)*
Ravi Prakash
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
आजकल के अपने
Anamika Singh
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
विपरीत परिस्थितियों में
Dr fauzia Naseem shad
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
पिता
Rajiv Vishal
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
मेरे हर खूबसूरत सफर की मंज़िल हो तुम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
आइए रहमान भाई
शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
'अशांत' शेखर
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
दफन
Dalveer Singh
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
औरत एक अहिल्या
Kaur Surinder
पिता
Neha Sharma
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...