Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

भुला बैठे हैं अब ,तक़दीर के ज़ालिम थपेड़ों को,

भुला बैठे हैं अब ,तक़दीर के ज़ालिम थपेड़ों को,
मगर मसरूफ़ हैं फिर ‘नील’ की क़िस्मत बनाने में ।
✍️नील रूहानी

15 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिछले पन्ने 8
पिछले पन्ने 8
Paras Nath Jha
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
Neelofar Khan
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
Sangeeta Beniwal
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कभी सोचा हमने !
कभी सोचा हमने !
Dr. Upasana Pandey
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
गुमनाम 'बाबा'
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*बादल (बाल कविता)*
*बादल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
#आज_का_शोध😊
#आज_का_शोध😊
*प्रणय प्रभात*
कातिल
कातिल
Dr. Kishan tandon kranti
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
पूर्वार्थ
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
रिश्ता और ज़िद्द दोनों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है, इसलिए ज
रिश्ता और ज़िद्द दोनों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है, इसलिए ज
Anand Kumar
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...