Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )

भीड बहुत है लोग नहीं दिखते

शहर में भीड बहुत है लोग नहीं दिखते ,
बात शुक्र गुजारी की हो कुछ नहीं लिखते…
कदम बढ़ाते हैं सिर्फ अपनी मंजिल को ,
किसी सीढ़ी पर दुआ का फूल नहीं रखते …
सोये रहते हैं तूफान क्यूँ ना आ जाये ,
जब खुद भूख नहीं लगती ,वो नहीं जगते …
अभी मुद्दा हो धर्म का या नफरत का ,
लड़ मरेंगे ,जादू की कोई झप्पी नहीं रखते …
बात खुद की हो तो मुस्कुराते हैं ये लोग ,
किसी और की ख़ुशी में , कम ही हैं हसते…
कोई मरे या जिए बस मिल जायें उन्हें रसते ,
ये लोग किसी दिल में कभी नहीं बसते …
क्षमा ऊर्मिला

2 Likes · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"कहीं तुम"
Dr. Kishan tandon kranti
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
2500.पूर्णिका
2500.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
Loading...