Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

” भींगता बस मैं रहा “

गीत

प्रीत में तुमने भिगोया ,
भीगता बस में रहा !!

पास आकर बैठते तुम ,
मोहनी छवि को लिए !
मौन अपलक देखता मैं ,
होंठ अपने सी लिए !
श्वांस क्या धड़कन कहे यह ,
संग लहरों के बहा !!
प्रीत में तुमने भिगोया ,
भीगता बस में रहा !!

ज्वार मन में उठ रहे हों ,
टूटते से बंध हैं !
मौन अधरों पर ठहरता ,
इक अजब सा द्वंद है !
दी मदिर सी जब छुअन है ,
है किला मन का ढहा !!
प्रीत में तुमने भिगोया ,
भीगता बस में रहा !!

गंध चंदन देह की जो ,
रोम पुलकित कर गई !
रूप की छलकी गगरिया ,
धैर्य की गति हर गई !
इंद्रधनुषी रंग बिखरे ,
मोहती छबि वह अहा !!
प्रीत में तुमने भिगोया ,
भीगता बस में रहा !!

है प्रणय का क्या खूब जाना ,
जो रचा तन मन बसा !
साधना तुम समय जानो ,
बंध ऐसा है कसा !
हो गए पल हैं सुहाने ,
आज सुधियों ने कहा !!
प्रीत में तुमने भिगोया ,
भीगता बस में रहा !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्य प्रदेश )

Language: Hindi
1 Like · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो न जाने कहाँ तक मुझको आजमाएंगे
वो न जाने कहाँ तक मुझको आजमाएंगे
VINOD CHAUHAN
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
बहुत कुछ सीखना ,
बहुत कुछ सीखना ,
पं अंजू पांडेय अश्रु
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
Radha jha
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"फसलों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
जिंदगी को खुद से जियों,
जिंदगी को खुद से जियों,
जय लगन कुमार हैप्पी
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
■ दोहा-
■ दोहा-
*प्रणय प्रभात*
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
*सरकारी कार्यक्रम का पास (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
“ सर्पराज ” सूबेदार छुछुंदर से नाराज “( व्यंगयात्मक अभिव्यक्ति )
DrLakshman Jha Parimal
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...