Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

@@@ भिखारी का सफ़र @@@

दर दर ठोकर खाता जाता एक
लंगड़ा सा, और अँधा सा भिखारी
एक डंडे के सहारे, सहमा सहमा सा
किस से मांगू, किस से न मांगू
पर मांगना था, उस की लाचारी !!

न घर था उसका ,न कोई था ठिकाना
पर समझते थे लोग शायद है
यह इस कोई नया बहाना
लाचार था अपनी मजबूरी से वो
पल पल गुजरती हुई दूरी से वो
पास से गुजरती हुई गाडिया
ठेस पहुंचा जाती थी, और बेचारे
को सब से मिल रही थी गालियाँ !!

हे राम, क्यूं मुझ को बनाया तूने
अँधा और लंगड़ा भी कर दिया
रहम की भीख मांग मांग कर
तूने बड़ा गन्दा यह कर दिया
कोई समझता की मैं जानबुझ कर करता हूँ
किस को बताऊँ कि, यह मैं क्यूं करता हूँ !!
घर पर है अन्धी माँ, और लंगड़ी बीवी
जिस की खातिर मैं, दर दर भटकता हूँ !!

मर्द है न, घर से निकलना उस की थी मजबूरी
न जाने अन्धे को देख कर क्या हो जाये मजबूरी
वो घर कब आएगा यह कैसे बता पाता उन सबको
खुद ठोकर खा लूँगा, पर इज्जत तो रहेगी बची मेरी !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
डॉ० रोहित कौशिक
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
2684.*पूर्णिका*
2684.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
अर्थ का अनर्थ
अर्थ का अनर्थ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
स्वदेशी के नाम पर
स्वदेशी के नाम पर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नींद में गहरी सोए हैं
नींद में गहरी सोए हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
What I wished for is CRISPY king
What I wished for is CRISPY king
Ankita Patel
Loading...