Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

*भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)*

भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव (कुंडलिया)
________________________
भाषा संयत ही रहे, चाहे जो हों भाव
बोलें वह जो दे नहीं, किंचित कोई घाव
किंचित कोई घाव, शब्द की महिमा भारी
मतभेदों के मध्य, नहीं हो मारामारी
कहते रवि कविराय, राष्ट्र की यह अभिलाषा
सब जन बनें सहिष्णु, सभ्य हो सब की भाषा
————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
अद्वितीय प्रकृति
अद्वितीय प्रकृति
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"जोड़-घटाव"
Dr. Kishan tandon kranti
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
नाव मेरी
नाव मेरी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
नगमे अपने गाया कर
नगमे अपने गाया कर
Suryakant Dwivedi
उल्फत का दीप
उल्फत का दीप
SHAMA PARVEEN
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
टिप्पणी
टिप्पणी
Adha Deshwal
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...