Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2023 · 1 min read

भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,

भाषाओं का ज्ञान भले ही न हो,
लेकिन तुम चुनना उसे जो तुम्हें समझ सके..❣️❣️

Vishal babu ✍️✍️

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
हारो मत हिम्मत रखो , जीतोगे संग्राम (कुंडलिया)
हारो मत हिम्मत रखो , जीतोगे संग्राम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरी नाव
मेरी नाव
Juhi Grover
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
2940.*पूर्णिका*
2940.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"तलाश में क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
शेखर सिंह
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जन्म से
जन्म से
Santosh Shrivastava
होली
होली
Dr. Kishan Karigar
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
काम न आये
काम न आये
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...