Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 2 min read

भावी आथित्य संस्कारो की झलकियां ………………

भावी आथित्य संस्कारो की झलकियां ………………

परिवर्तन के इस दौर में
भविष्य का चित्र कुछ ऐसे उभर कर आयेगा !
नैतिक मूल्यों के संग संग
संस्कारो का समस्त स्वरुप ही बदल जाएगा !

सर्वप्रथम आथित्य सत्कार में,
जो आगंतुक को विधिवत लुभायेगा !
वही सुधि जन सर्वगुण संपन्न,
सस्कारी जमात का गुरु कहलायेगा !!

प्रथम काज अतिथि प्रणाम के स्थान पर
मोबाईल चारजिंग की स्थिति का पता लगायेगा
स्वागत स्वररूप आगंतुक को बिठाने से पूर्व
मोबाईल की चारजर सुविधा उपलब्ध करायेगा
संस्कारो की श्रेणी का महत्वपूर्ण गुण माना जायेगा….!!

मिलने का सिलसिला कुछ ऐसा होगा
जब घर की अपेक्षा कोई सार्वजनिक स्थान पर
मिलने की उत्सुकता दिखलायेगा,
अच्छे गणमान्य जनो में उसका नाम लिया जायेगा !!

संस्कारो के सिलसिला आगे ऐसे बढ़ेगा
आथित्य सत्कार में अतिथि को द्वार से ही भेंट कर
लौट जाने को जो मजबूर करायेगा,
इंसानो में सबसे बड़ा समझदार प्राणी वो ही कहलायेगा !!

वक़्त की चाल से आगे चलने का
जो हुनर कुछ इस तरह अपनायेगा
आगंतुक को खानपान व्यवस्था का
प्रबंध साथ में करके आने का आह्वान करायेगा
संस्कार के गुणों में सर्वदा वो चार चाँद लगायेगा !!

इससे भी अग्रणी बन
दूरभाष यंत्रो को सदुपयोग में लाकर
भाईचारे का अपनत्व दिखायेगा
मिल्न से होने वाली हानियों से
यथासमय अवगत करा जागरूकता फैलायेगा
वह व्यक्ति शिष्टाचार का गुरु कहलायेगा !!

निकट भविष्य में जब पानी का अकाल पड़ेगा
जहर भी पानी की अपेक्षा सस्ते दामों बिक जायेगा
उक्त समय में भेंट स्वरुप जो
दो बोतल पानी की अपने साथ में लायेगा
सर्वोत्तम अतिथि का पद, सम्मान के साथ वो ही पायेगा !!

!
!
!
डी. के निवातियाँ _____________@

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
शिव (कुंडलिया)
शिव (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2381.पूर्णिका
2381.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
gurudeenverma198
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
* भावना में *
* भावना में *
surenderpal vaidya
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
किसी को दिल में बसाना बुरा तो नहीं
Ram Krishan Rastogi
अजीब बात है
अजीब बात है
umesh mehra
मानवता
मानवता
Rahul Singh
Loading...