Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया

भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
दस रूपये में साइकिल वाला,बेच रहा है खुशियाँ
बच्चों के चेहरे खिल जाएं, रस्ते में जो वो मिल जाए
बच्चों की देखो तो कितनी सीमित होती दुनिया,
उनको क्या मालूम खिलौने वाली उनकी दुनिया
छिन जाएगी उनसे,गायब हो जाएंगी खुशियाँ।

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
जंजालों की जिंदगी
जंजालों की जिंदगी
Suryakant Dwivedi
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
2988.*पूर्णिका*
2988.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
"18वीं सरकार के शपथ-समारोह से चीन-पाक को दूर रखने के निर्णय
*प्रणय प्रभात*
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
रंग रंगीली होली आई
रंग रंगीली होली आई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...