Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 2 min read

भारत माता

– भारत माता

15 अगस्त का दिन है आता
बच्चा-बच्चा भी आजादी का पर्व मनाता।
वीरों के बलिदानों पर
शत-शत नमन शीश झुकाता।
पूरा भारत उत्साह उमंग भर
देश भक्ति के जलवे दिखलाता ।
आजादी के खुले गगन में
हर्षित हो मन झंडा फहराता ।
हर चेहरे पर मुस्कान जो दिखती
सम्मान पूर्वक राष्ट्रीय गान गाता ।
जाति धर्म का भेद नहीं कुछ भी
भारत अखंडता का पाठ पढ़ाता ।
हिम्मत ताकत शौर्य साहस संग
ज्ञान -विज्ञान की गाथा गाता।
कला साहित्य के सानिध्य में
धर्म संप्रभुता है यहां यह बतलाता।
मेरा हम सबका भारत है महान बड़ा
विविधता में एकता है अंतर्मन से मन मुस्कुराता ।
डट कर खड़े सरहद पर भारत मां के लाल सदा
सम्मान पूर्वक भारतीय मन सम्मान से शीश झुकता ।
हम बालक इस पावन भूमि के और
यह हमारी भारत माता यह हमारी भारत माता ।।
हम गर्व मन से यह कहते हैं
हम भाग्यशाली हैं जो भारत में रहते हैं ,
साधु संतों की पावन भूमि यह
वीरों की धरा वीरता की कहानी बताता।
अडिग हिमालय शिखर यहां पर शोभित है
निर्मल पावन गंगा यमुना हिंद सागर रहता ।
संस्कारों से पलता है जीवन
निर्मल तन मन बनता मानव मन ।
जहां पत्थर भी पूजे जाते हैं
वनस्पतियों में भी देव निवास बनाते हैं।
पशु पक्षियों मे भी अटूट श्रद्धा रहती
दया दीनता परोपकार भारत में ही रहती है।
समय समय पर कुछ देशद्रोही के आजाने से
धरा बेबस निराश पीड़ित रहती।
मिलकर इन विद्रोही का बहिष्कार करो
भारत मां को इन दुश्मन से आजाद करो।
मर कर पुनः जन्म हो सीमा सदा यही धरा पर जन्मे
दिल की बात सभी के सामने कहती
यह धरा मेरी माता और मैं इसकी बेटी,मैं इसकी बेटी।।
-सीमा गुप्ता, अलवर राजस्थान

Language: Hindi
1 Like · 123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
Shweta Soni
💐Prodigy Love-26💐
💐Prodigy Love-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त एक हकीकत
वक्त एक हकीकत
umesh mehra
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
*मां चंद्रघंटा*
*मां चंद्रघंटा*
Shashi kala vyas
23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/155.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
माँ
माँ
Shyam Sundar Subramanian
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
Anil chobisa
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
परिणय प्रनय
परिणय प्रनय
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
ruby kumari
होली
होली
Madhavi Srivastava
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
Loading...