Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 2 min read

भारत माता की संतान

मां का गौरव रहे अमर, इसका नित ध्यान किया है,
अमृत सारा छोड़ के हमने, विष का पान किया है,
हमने प्राणों की ज्वाला से, मां की जोत जलाई,
शोणित की नदियों में बहकर, निर्मलता अपनाई,
केसरिया साफा मस्तक पर, स्वाभिमान हर्षाए,
मां के वंदन में वीरों ने, लाखों भाल चढ़ाए
बहन बेटियों के आंचल को, गंदा नहीं किया है,
प्राण गए पर इस धरती का, धंधा नहीं किया है,
दूध पिलाती माता ने, नित स्वाभिमान बतलाया,
शस्त्र खिलौने हाथों में, वीरों का गान सुनाया,
समरांगण में निर्भय होकर, आगे कदम बढ़ाना,
मर जाए पर नहीं सिखाया, डरकर पीठ दिखाना,
स्वयं चन्द्रमा आकर पहले, तन को शीतल करता हो
जिस धरती के दर्शन करके, दिनकर वंदन करता हो,
जिसके गौरव स्वाभिमान को, दसों दिशाएं गाती हो,
बलिदानों के शोणित का, मस्तक पर तिलक लगाती हो,
जिसने पहनी मातृभूमि हित, विपदाओं की माला,
सदा शिखर पर गढ़ा रहें वो, स्वाभिमान का भाला,
बहनों के आंचल को देकर, रत्नों को अपनाया,
बोलो कब हमने बच्चों को, झूठा पाठ पढ़ाया,
कब माटी से ऊपर हमने, दौलत को तोला हैं,
जो हैं सत्य उसे निर्भय हो, कर हमने बोला है,
रामायण भगवत गीता का, हमने ज्ञान दिया है
जग को अमृत देकर हमने, विष का पान किया है,
वन में वास किया हमने,सागर में बांध बनाया,
बाल्यकाल में माता को, मुख में ब्रम्हांड दिखाया,
कण कण में परमाणु है, दुनिया को बोध कराया,
शुन्य दिया हमने दुनिया को, गणना ज्ञान सिखाया
पापी रावण की लंका में, जाकर आग लगाई,
दुष्ट पापियों को हमनें, उनकी औकात दिखाई,
श्री राम की रामायण, केशव का गीता ज्ञान हमीं,
भरत वर्ष में मर्दन करने वाले, परशुराम हमीं,
जहां नर में राम समय है, नारी में बसती सीता है,
आदर्श सिखाती रामायण, तो राहें भगवत गीता है,
कल्याण विश्व का हो बोलें, उन मुनियों का संदेश हमीं
रामायण के वचन हमीं, और गीता का उपदेश हमीं,
किंचित देरी किए बिना जो, भाल चढ़ाने वाली हो,
स्वामिभक्ति में माए खुद के, लाल चढ़ाने वाली हो,
त्याग, शौर्य, बलिदान, प्रेम, नित गाऊ जिसके गान को,
दुनियां भी नतमस्तक करती, अपने हिंदुस्तान को,

मैं घोषणा करता हूं कि प्रस्तुत रचना मेरी मौलिक, स्वरचित, अविवादित है,

रवि यादव, कवि
कोटा, राजस्थान
9571796024

158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू रुक ना पायेगा ।
तू रुक ना पायेगा ।
Buddha Prakash
*रोग से ज्यादा दवा, अब कर रही नुकसान है (हिंदी गजल)*
*रोग से ज्यादा दवा, अब कर रही नुकसान है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
शब्द सारे ही लौट आए हैं
शब्द सारे ही लौट आए हैं
Ranjana Verma
"भव्यता"
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
ओंकार मिश्र
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
💐अज्ञात के प्रति-95💐
💐अज्ञात के प्रति-95💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
सच की कसौटी
सच की कसौटी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
बदल जाओ या बदलना सीखो
बदल जाओ या बदलना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
gurudeenverma198
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...