Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

भारत माँ पे अर्पित कर दूँ

मैं अपना जीवन
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ।
हे बलिदानी लोग जहाँ के
मैं अपना सारा जीवन वहां समर्पित कर दूँ।

हौसले होते है स्वपनों से ऊँचे जहां
मैं भी सारा जीवन वहाँ व्यतीत कर दूँ।
हे जो दुनिया की नजरों मे सम्मानित जहाँ
मैं भी आज उस भारत माँ को दिल से नमन कर दूँ।

हे जहा की मिट्टी इतनी महान
मैं भी वहां के वीरों बलिदानों मे अपना नाम कर दूँ।

मिले अगर मुझे भी मौका
मैं भी खुद को भारत माँ पे बलिदान कर दूँ।
इससे बडा सम्मान और क्या हो
जो मैं अपना जीवन
भारत माँ को समर्पित कर दूँ।
हे बलिदानी लोग जहां के
उस भारत माँ पे अपना सारा
जीवन अर्पित कर दूँ।

हे सम्मानित कितने लोग यहा के
क्यो ना मैं भी उनका मान बढाऊ।
हे जो भी अपने हाथों मे
क्यो ना मैं भी अपनी मुटठी खोल दिखाऊ।
देखे सारा जहाँ
मैं वहाँ भारत माँ का तिरंगा लहराऊ।

हे नमन भारत माँ को
मैं उन वीरों को सलामी देकर जाऊ।
हे खुद मैं हौसला इतना
के मैं अपने जहाँ के लिये कुछ करके जाऊ।

मैं भी अपना जीवन
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ ।
हे बलिदानी लोग जहाँ के
मैं अपना सारा जीवन वहाँ समर्पित कर दूँ।…
**********************************
* Swami ganganiya *

Language: Hindi
1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Swami Ganganiya
View all
You may also like:
मदर्स डे
मदर्स डे
Satish Srijan
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
कभी बारिशों में
कभी बारिशों में
Dr fauzia Naseem shad
बदलते मूल्य
बदलते मूल्य
Shashi Mahajan
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
Sunil Maheshwari
My biggest fear is attachment.
My biggest fear is attachment.
पूर्वार्थ
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
ख़ूबसूरत लम्हें
ख़ूबसूरत लम्हें
Davina Amar Thakral
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
होलिका दहन कथा
होलिका दहन कथा
विजय कुमार अग्रवाल
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
2681.*पूर्णिका*
2681.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
सत्य की खोज........एक संन्यासी
सत्य की खोज........एक संन्यासी
Neeraj Agarwal
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ लोकतंत्र की जय।
■ लोकतंत्र की जय।
*प्रणय प्रभात*
Loading...